7 ऐसे assets जो 2024 में आपको अच्छी खासी इनकम जनरेट करके देंगे

दोस्तों assets वो चीजें जो आपकी जेब में पैसा डालती और liabilities वह चीजें हैं जो आपकी जेब से पैसे निकालती है। हम सब को पता है कि पैसा कमाने के कई तरीके हैं और जिस इंसान के पास जितने ज्यादा एसेट्स होंगे वो उतना ज्यादा अमीर होता है। इसलिए साल दर साल हम ट्राई करते हैं कि ज्यादा से ज्यादा असेट्स बनाए जाएं। 

अब हो सकता है कि आपके पास दो, चार या पांच असेट्स हों या फिर एक भी नहीं हो। अगर अभी तक आपने एक भी asset नहीं बनाया है और आप अभी भी ढूंढ रहे हैं कि कौन से assets बनाया जाए, जो आपको अच्छी खासी इनकम जनरेट करके दे तो डोंट वरी, आज के इस आर्टिकल में मैं आपको सात ऐसे एसेट्स के बारे में बताने वाला हूं जो आपको इस नए साल में यानी कि 2024  में एक अच्छी खासी इनकम जनरेट करके दे सकते हैं। तो चलिए बिना किसी देरी के शुरू करते हैं। 


7 Assets That Will Make You Rich in 2024


1. स्मॉल बिजनेस 

तो सबसे पहला असेट जो 2024 में आपके लिए गेम चेंजर साबित हो सकता है, वह है स्मॉल बिजनेस। जब भी बात बिजनेस की आती है तो हमारे दिमाग में बस बड़े बिजनेस ही आते हैं और हमें लगता है कि हमारे पास इतना पैसा कहां है कि कोई बड़ा बिजनेस स्टार्ट किया जाए। बिजनेस स्टार्ट करने का मतलब केवल बड़ा बिजनेस ही नहीं होता। 

आज के टाइम पर बहुत सारे ऐसे छोटे छोटे बिजनेस है जिसमें आप 2-5 लाख रूपये लगाकर भी बिजनेस शुरू कर सकते हैं। मान लो कि आपके पास ₹5 लाख हैं और ₹5 लाख को अगर आप कहीं पर इन्वेस्ट कर देते हो जहां से आपको 12% का रिटर्न मिल रहा है तो Rule of 72 के हिसाब से आपके 5 लाख को डबल होने में कितना टाइम लगेगा? 

तो आपको साल का जितना भी रिटर्न मिल रहा है उसको आप ने 72 से डिवाइड करना है । तो इस केस में 72 डिवाइड बाय 12 तो आंसर होगा 6 . यानी कि अगर आपको 12 पर्सेंट का रिटर्न मिल रहा है तो इन ₹5 लाख को डबल होने में छह साल लग जाएंगे। जबकि अगर आप किसी पार्टनर के साथ मिलकर कोई स्मॉल बिजनेस करते हो और अगर आपका बिजनेस चल निकलता है तो 5 लाख को डबल होने में ज्यादा टाइम नहीं लगेगा। बिजनेस आइडिया कैसे ढूंढने हैं? तो उसके लिए मैंने कई आर्टिकल्स बना रखे हैं ,जो आपको इस वेबसाइट में मिल जायेंगे।  

अगर हम उदारहण लें स्माल बिसनेस का तो जहां आप रहते हो, वहां किस चीज की डिमांड है और वह चीज वहां आसानी से उपलब्ध नहीं होती है। जैसे कि आप कहीं ऑफिस में काम करते हो, जहां पर हजारों लोग काम करते हैं। अब हो सकता है कि जब लंच ब्रेक होता हो तो उसके आसपास कोई भी अच्छा कैफे न हो, जहां लोग टाइम स्पेंड कर सकें। 

तो ऐसी जगह पर आप दो तीन लोग पार्टनर के रूप में एक कैफे स्टार्ट कर सकते हो या फिर कोई फास्ट फूड की छोटी सी शॉप भी खोल सकते हो। जैसे बर्गर, हॉट डॉग, सैंडविच, पिज्जा इत्यादि। क्योंकि अक्सर ऐसा होता है कि आपको लगता है कि यार यहां पर ऐसे शॉप तो होनी चाहिए थी। 

तो जब नेक्स्ट टाइम आपके सामने कोई प्रॉब्लम आए तो आप उसका सॉल्यूशन ढूंढने की कोशिश करें और आपको कोई न कोई आइडिया जरूर मिलेगा, जिससे आप कम अमाउंट से भी बिजनेस शुरू कर सकते हैं, जो आपके लिए अच्छा साबित हो सकता है। 


2. ड्रॉपशिपिंग

अब नेक्स्ट आता है ड्रॉपशिपिंग बिजनेस। दोस्तों , एक फिजिकल बिजनेस मॉडल की जो सबसे बडी परेशानी होती है ना वो यह है कि उसकी इन्वेंट्री को मैनेज करना, सप्लाई, डिलीवरी एंड ऑल। इसलिए इंडिया की ज्यादातर पॉपुलेशन बिजनेस नाम के शब्द से ही भागती है। पर यह 1950 नहीं 2024  है। 

हर चीज ऑटोमेट और आसान हो गई है और ड्रॉपशिपिंग बिजनेस एक परफेक्ट बिजनेस मॉडल है जिसमें आपको इन्वेंट्री सप्लाई और डिलीवरी की टेंशन नहीं लेनी पडती है। एक डाटा के अकॉर्डिंग ड्रॉपशिपिंग बिजनेस आने वाले साल में 250 बिलियन डॉलर की मार्केट कैप क्रॉस करने वाला है। और सिर्फ इंडिया नहीं बल्कि पूरी दुनिया में इस बिजनेस का स्कोप बहुत है। 

इसके अंदर आपको बस एक ऑनलाइन स्टोर क्रिएट करना होता है जिसमें आप प्रोडक्ट को लिस्टिंग करते हो और साथ ही साथ एक सप्लायर से टाईअप भी करते हो जो इन्वेंटरी और डिलीवरी दोनों हैंडल करता है। आइये इसे एक एग्जांपल के थ्रू समझाता हूं। 

मान लीजिये विशाल नाम का एक व्यक्ति एक ऑनलाइन स्टोर चलाता है जिसमें वो मोबाइल एक्सेसरी से रिलेटेड प्रोडक्ट सेल करता है। और विशाल ने एक सप्लायर से टाइअप कर रखा है जिनका नाम गुप्ता लिमिटेड है जो डायरेक्टली प्रोडक्ट डिलीवर करते हैं। अब होता क्या है कि कस्टमर विशाल के ऑनलाइन स्टोर पर आकर अपने फोन के लिए एक मोबाइल कवर ऑर्डर करता है, जिसकी प्राइस ₹1,200 लिस्टेड होती है। 

अब जैसे ही वो कवर ऑर्डर करता है तो कस्टमर अपना एड्रेस और ₹1,200 विशाल को ट्रांसफर कर देता है और विशाल का काम ये होता है कि वो अपने कस्टमर का ऑर्डर आगे गुप्ता लिमिटेड को फॉरवर्ड कर देता है जो पैक करके उस कवर को कस्टमर तक पहुंचा देते हैं। 

अब इसमें विशाल को प्रॉफिट हुआ क्योंकि सप्लायर से उसने सेम प्रोडक्ट ₹700 में उठाया और अपने स्टोर पर 1200 में लिस्ट किया तो सप्लायर को उसकी कॉस्ट देने के बाद विशाल के पास बचे पूरे ₹500। और यही खेल है  ड्रॉपशिपिंग बिजनेस का जिसमें ना ही आपने कोई सामान स्टोर किया, न ही उसको पैक किया और न ही शिप किया और इन्वेंट्री मैनेज करने की टेंशन आपके सर पर नहीं होती जिस वजह से आप अपना बिजनेस आराम से कर सकते हैं। 

और इस बिजनेस की एक सबसे अच्छी खास बात है की  इसमें आपको 24 घंटे सात दिन काम करने की जरूरत नहीं होती है। आप किसी और काम के साथ या अपनी जॉब के साथ भी एक ऑनलाइन ड्रॉपशिपिंग स्टोर चला सकते हैं। 


यह भी पढ़ें :

Angel One KYC Online अपडेट ऑनलाइन कैसे करें

26 ASSETS that make you financially free

3. स्टॉक्स 

दोस्तों , इंडिया में स्टॉक मार्केट में स्टॉक सेलेक्ट करना उतना ही मुश्किल है जितना सर पे बाल गिनना। ऐसे में मोस्टली लोगों का एक ही सवाल होता है कि स्टॉक तो ठीक है, पैसा लगाने के लिए तैयार भी हैं, पर किस स्टॉक में इन्वेस्ट करें जो हमें  एक स्टेबल ग्रोथ प्रोवाइड कर सके। क्योंकि स्टॉक मार्किट में पाँच हज़ार से भी ऊपर स्टॉक लिस्टेड है। 

तो अगर आप कंपनी के बारे में डिटेल रिसर्च कर सकते हो, फंडामेंटल एनालिसिस कर सकते हो तो आप बेसिकली अच्छे स्टॉक ढूंढ सकते हो और साथ ही साथ आप जिन स्टॉक्स के बारे में जान सकते हो वो है डिविडेंड, पेनी स्टॉक। डिविडेंड, और पैनी स्टॉक आपके वो साथी हो सकते हैं जो जिंदगी के साथ भी आपको फायदे देंगे और रिटायरमेंट के बाद भी और ये आपके और आपके परिवार के लिए एक सिग्निफिकेंट वेल्थ बना कर देंगे। 

अब होता क्या है कि मान लो आपने ₹5 लाख के स्टॉक्स खरीद रखे हैं और कुछ ही सालों में उन स्टॉक्स का प्राइस बढ़ भी गया। अब आपके ₹5 लाख के स्टॉक्स की कीमत ₹8 लाख हो चुकी है,लेकिन ये  केवल पेपर पर दिखने वाला प्रॉफिट है। आपको प्रॉफिट तभी मिलेगा, जब आप उन स्टॉक्स को सेल करोगे। 

वहीं पर कुछ डिविडेंड स्टॉक्स होते हैं, जहां पर कंपनी अपने हिसाब से चाहे क्वार्टरली, छह महीने में या सालभर में एक बार डिविडेंड डिक्लेयर करती है और वो डिविडेंड आपके बैंक अकाउंट में डिपॉजिट हो जाता है, उसके लिए आपको उन स्टॉक्स को सेल करने की जरूरत भी नहीं होती है। 

पर दोस्तों आपको एक बात यहां पर ध्यान रखनी है कि जरूरी नहीं कि जो कंपनी डिविडेंड देती है वो स्टॉक्स अच्छे ही हों। आपको उस कंपनी का एनालिसिस जरूर करना है, तभी आप सही स्टॉक्स को चूज कर पाओगे। और अगर आप स्टॉक्स में या कहीं पर इनवेस्ट करना चाहते हो तो उसके लिए एक डीमैट अकाउंट की जरूरत होती है। अगर आपने अभी तक डीमैट अकाउंट नहीं खुलवाया है तो फ्री में डीमैट अकाउंट ओपन करने के यहाँ पर क्लिक करें। आप यहाँ से अपना फ्री में डीमैट अकाउंट ओपन कर सकते हैं।


 4. सिस्टेमैटिक इनवेस्टमेंट प्लान (SIP ) 

दोस्तों , इनवेस्टिंग की दुनिया में एक ऐसा कॉन्सेप्ट है, जो दुनिया का आठवां अजूबा है। बस इसमें और बाकी के सात अजूबों में डिफरेंस यह है कि यह सातों अजूबों को देखने के लिए पैसे लगते हैं, जो हमारे पास है नहीं। पर आठवां अजूबा पैसे लेता नहीं, बल्कि पैसे बनाता है। वेल्थ और बिजनेस के कॉन्सेप्ट में किसी छोटे बच्चे को जो पहला कॉन्सेप्ट सिखाया जाता है, वह है पावर ऑफ कंपाउंडिंग। 

सिक्स या सेवंथ क्लास में बच्चा जब कंपाउंड इंट्रेस्ट के क्वेश्चन कर रहा होता है तो लगता है यार क्या सरदर्दी है। पर असल में कंपाउंडिंग आगे लाइफ में आपके सर से सारा दर्द सारा वजन हल्का कर सकती है अगर इसे सही तरीके से एग्जीक्यूट किया गया। और पावर ऑफ कंपाउंडिंग इंजॉय करने के लिए जरूरत है एसआईपी की। एसआईपी या तो इंडेक्स फंड में या फिर म्यूचुअल फंड में। 

देखो दोस्तों , साफ-सीधी बात है, मैं अगर अभी आपको एक स्टॉक टिप्स दे दूं और आपसे कहूं  कि भाई जितना पैसा है, सब लगा दो। भले ही आपको विश्वास क्यों न हो जाए, पर क्या आप अपना सारा पैसा लगा दोगे ? नहीं न। किसी के पास इतना पैसा है भी नहीं भाई, सब चाहते हैं कि एक स्टेबल और सिक्योर इन्वेस्टमेंट मिनिमम से मिनिमम पैसा लगाकर  शुरू हो जाए और  उसके लिए बेस्ट है एसआईपी।  

इनफ्लेशन जैसे इकोनॉमिक threat को दूर करने के लिए इंडेक्स फंड में इन्वेस्टमेंट सबसे बेस्ट ऑप्शन हो सकता है। इंडेक्स फंड में देश की टॉप कंपनीज लिस्टेड होती हैं, जिन्होंने पिछले 10 सालों में एवरेज 13 पर्सेंट का रिटर्न दिया हो। बस आपको एक टारगेट सेट करना है कि नेक्स्ट 10, 20 या 30 सालों में कितना अमाउंट चाहिए होगा, जिससे मैं फाइनेंशियली फ्री हो सकूं। 

तो मान लेते हैं कि आपको जो अमाउंट चाहिए, वह है 1 करोड़, तो उसके लिए आपको अपनी सैलरी या अपनी मंथली इनकम में से हर महीने इंडेक्स फंड में छह हज़ार रुपए इन्वेस्ट करना है। 

SIP chart


अभी चार्ट में देखिए अगर आप हर महीने छह हज़ार रुपए की एसआईपी करते हैं, जहां आपको 13 पर्सेंट का रिटर्न मिल रहा है तो पाँच साल में आपका अमाउंट होगा पांच लाख  आठ हज़ार रुपए। 10 साल में होगा 14,80000  हज़ार रुपए, 25 साल में होगा लगभग 1 करोड़ ₹36 लाख। यानी कि 25 साल में आप 1 करोड़ कमा लोगे। 

अगर आप 6 की जगह 10 हज़ार रुपए इन्वेस्ट करोगे तो आप देख सकते हो कि 20 साल में आपके पास 1 करोड़ ₹14 लाख हो जाएंगे और 25 साल में तो यह अमाउंट 2 करोड़ ₹27 लाख हो जाएगा। तो नए साल पर एक शुभ काम जरूर करना, इंडेक्स फंड में एसआईपी जरूर करना। 


5 . गोल्ड

गोल्ड एक ऐसी कमोडिटी है जो आपको और आपके फ्यूचर को एक सेफ्टी नेट प्रोवाइड करती है और गोल्ड में इन्वेस्ट करने से आपको दो तरह के फायदे होते हैं। नंबर वन गोल्ड का और उसके प्राइस का स्टॉक मार्केट से कोई रिलेशन नहीं होता। गोल्ड एक सेफ एसेट है जो मुश्किल के समय पर आपको गरीब होने से बचा लेता है। लेकिन स्टॉक मार्केट एक बेटर इन्वेस्टमेंट ऑप्शन होता है। 

स्टॉक्स हाइली वोलेटाइल होते हैं। कभी ऊपर तो कभी नीचे पर गोल्ड में इतना फ्लक्चुएशन नहीं होता है। और तो और यह स्टॉक मार्केट से अपोजिट काम करते हैं। यानी जब स्टॉक मार्केट नीचे जाती है तो गोल्ड का प्राइस इनक्रीज होने लगता है, क्योंकि मोस्टली लोग अपना पैसा निकाल कर गोल्ड में इन्वेस्ट कर रहे होते हैं। रिसेशन जैसे टाइम के लिए गोल्ड एक बहुत ही इफेक्टिव इन्वेस्टमेंट साबित हो सकता है। 

गोल्ड में इन्वेस्ट करने का दूसरा फायदा यह है कि गवर्नमेंट चाहे कितने भी नोट प्रिंट कर ले, कितनी भी क्रिप्टोकरंसी आ जाए, कितना भी इन्फ्लेशन क्यों न हो जाए, गोल्ड कभी भी अपनी वैल्यू लूज नहीं करता। उल्टा बढ़ती इन्फ्लेशन के साथ इसके प्राइस भी बढ़ते हैं। 

 

gold rate chart in india

इस चार्ट के अकॉर्डिंग आप देख सकते हो कि पिछले 60 सालों में 10 ग्राम गोल्ड के प्राइस जिस तरह से बढे हैं, सन 2000 में इसका प्राइस था 4400 रूपये और आज की तारीख में 10 ग्राम गोल्ड का रेट 63 हज़ार रुपए लगभग है। और इंडिया तो एक ऐसा देश है जहां फेस्टिवल्स और रिचुअल्स की भरमार है। हर फेस्टिवल, हर रिचुअल में गोल्ड यूज होता है। 

हमारे लिए गोल्ड एक तरह से पवित्र एसेट माना जाता है और इसलिए इंडिया में इसकी डिमांड भी बहुत ज्यादा है और आगे भी रहेगी। इसलिए आज का 63 हज़ार रुपए दिखने वाला यह प्राइस फ्यूचर में 1 लाख भी हो सकता है। और प्रेशियस मेटल में इन्वेस्टमेंट का सबसे बडा रीजन है कि यह कोई पेपर करेंसी नहीं है जो किसी भी दिन मोनेटाइज हो जाए। 

ये ऐसे फिजिकल एसेट्स होते हैं जिनको गवर्नमेंट भी सबसे ज्यादा वैल्यू देती है। क्योंकि गवर्नमेंट अपनी कंट्री के गोल्ड को as a मॉरगेज यूज करती है। और तो और गोल्ड यूनिवर्सल हर जगह वैलिड है। आप खुद सोचो आप इंडिया से यूएसए, यूके गए तो वहां पर रुपया काम नहीं करेगा और आपको करंसी एक्सचेंज करवानी पड़ेगी। जबकि गोल्ड, गोल्ड हर जगह में  वैलेडिटी रखता है। 

और तो और अगर आपके पास इतना पैसा नहीं है कि आप गोल्ड में इन्वेस्ट कर सको तो आप SGB यानी सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में इन्वेस्ट कर सकते हो, जो आरबीआई द्वारा 2015  में इंट्रोड्यूस की गई। इस स्कीम के अकॉर्डिंग आप फिजिकल फॉर्म ऑफ गोल्ड ना लेकर उसे intangible फॉर्म में खरीद सकते हो। जिसमें मिनिमम इन्वेस्टमेंट एक ग्राम गोल्ड होता है और मैक्सिमम चार किलोग्राम। तो आप देख ही सकते हो कि gold can be your best friend in finance। 


6. कॉपीराइट कंटेंट

तो दोस्तों, आजकल इंटरनेट का जमाना है, AI का जमाना है, और हर कोई चाहता है कि इंटरनेट के इस वेब में सब अपना कंट्रीब्यूशन दें और कॉपीराइट कंटेंट इस विषय में सबसे गेमचेंजर साबित हो सकता है। पिछले कुछ सालों में यूट्यूब ने वैल्यू जनरेशन का एक ऐसा प्लेटफार्म दिया है जिसमें लाखों इंडियंस की लाइफ बदली है। एवरीथिंग डिपेंड ऑन द कंटेंट यू मेक। 

और सिर्फ यूट्यूब ही नहीं बल्कि ब्लॉग्स, पेजेस एंड वेबसाइट के जरिए भी आप अपने कंटेंट क्रिएशन की जर्नी शुरू कर सकते हो। और अगर आप एक मीनिंगफुल कंटेंट देते हो, वीडियो बनाते हो, राइटिंग करते हो, सोंग्स अपलोड करते हो, स्टोरी नैरेशन या पॉडकास्ट बनाते हो तो यूट्यूब आपको कॉपीराइट प्रोवाइड करता है। 

मतलब ओरिजिनल कंटेंट और जब भी उसे कोई कॉपी करके अपनी क्रिएशन में यूज करता है तो यूट्यूब कॉपीराइट क्लेम के जरिए आपके ओरिजिनल कंटेंट को प्रोटेक्टेड रखता है, जिससे आपकी क्रिएशन से आपकी वेल्थ जनरेट हो। मानो या ना मानो पर आने वाले पाँच साल इंडियन यूट्यूबर्स के होने वाले हैं, इंडियन राइटर्स के होने वाले हैं। 

पहले के जमाने में लोगों के पास अपनी क्रिएटिव थिंकिंग दिखाने के लिए प्लेटफॉर्म नहीं था, पर आज है। आज आप ऑनलाइन कोचिंग दे सकते हो, फाइनेंशियल लेसन प्रोवाइड कर सकते हो, ब्लॉग राइटिंग कर सकते हो, व्लॉगिंग कर सकते हो, अपना पर्सनल एक्सपीरिएंस दूसरों के साथ शेयर कर सकते हो। 

उस काम के आपको पैसे मिलेंगे और दूसरों को इंस्पिरेशन। आज की डेट में हजारों अपॉर्चुनिटी हैं अपना कॉपीराइट कंटेंट शुरू करने की और AI आने से तो ये काम आजकल और भी आसान हो गया है। 


7. हेल्थ एंड रिलेशनशिप 

2024 में आपको सबसे ज्यादा जिस जगह इन्वेस्ट करना है वो है आपकी हेल्थ और आपके रिलेशन। देखो यार एक आदमी फाइनेंशियली स्टेबल तभी रह सकता है जब उसका लाइफ पार्टनर उसके रिलेशन अच्छे और सपोर्टिव हों। और अच्छा अगर रिलेशन होंगे तो आप मेंटली और फिजिकली भी हेल्दी रहोगे। 

और पैसा कमाने की रेस में बहुत से लोग इस सबसे इम्पोर्टेन्ट एसेट को नजरअंदाज कर देते हैं। राकेश झुनझुनवाला जी हमें 62 साल की एज में छोड़कर चले गए थे। ग्रेट इन्वेस्टर, ग्रेट पर्सन, ग्रेट इंस्पिरेशन, ग्रेट बिजनेसमैन, बट नॉट हेल्दी पर्सन। 

वह लाइफ में इतने बिजी थे कि उनके पास अपने लिए टाइम ही नहीं था और वही बैड ईटिंग हैबिट्स ने उनका लीवर फिर उनका हार्ट डैमेज कर दिया। अगर वो जिंदा होते तो सोचो वो इंडियन स्टॉक मार्केट को और कितनी ऊंचाइयों पर पहुंचा सकते थे। 


Bottomline

तो दोस्तों  इस आर्टिकल में हमने देखा कि साल 2024  नई नई ऑपर्च्युनिटी, नई नई लर्निंग लेकर आने वाला है, और कैसे हम उसे और भी ज्यादा प्रोडक्टिव  बना सकते हैं इन अमेजिंग असेट्स में इन्वेस्ट करके। अगर आपको रेसोलुशन लेना ही है तो आज और अभी लो कि इन सभी में से एक न एक चीज तो नए साल में जरूर शुरू करोगे। 

चाहे वो स्मॉल बिजनेस हो, स्टॉक इंडेक्स में इन्वेस्ट करना हो, एसआईपी करना हो, कोई भी छोटा मोटा बिजनेस करना हो, यूट्यूब कंटेंट बनाना हो या फिर गोल्ड को अपना साथी बनाना हो तो इन सब में से कुछ भी चूज कर लेना। 

बट मोस्ट इम्पोर्टेन्ट जो आपको फॉलो करना ही करना है वो है  बी हेल्दी एंड फोकस योर रिलेशन्स। एक हेल्दी माइंड और एक हेल्दी बॉडी ही आपको सक्सेस की ओर लेकर जाएगी और आपके न्यू ईयर को सच में हैप्पी एंड प्रोस्पर बनाएगी।

Ethan

About the Author: Ethan is an experienced content writer with over 7 years of experience in crafting engaging and informative articles. His passion for reading and writing spans across various topics, allowing him to produce high-quality content that resonates with a diverse audience. With a keen eye for detail and a commitment to excellence, Ethan consistently delivers top-notch work that exceeds expectations.

एक टिप्पणी भेजें (0)
और नया पुराने