चाणक्य नीति के यह 9 Buisness Lesson आपको बहुत जल्दी सफल बना सकते हैं | Finance In Hindi

Finance In Hindi: दोस्तो, कूटनीति, अर्थनीति और राजनीति के महाज्ञानी चाणक्य ने अपने महाज्ञान का कुटिल सदुपयोग करके अखंड भारत का निर्माण किया, जिस वजह से वे कौटिल्य भी कहलाए। उन्होंने अपना अपमान करने वाले नंदवंश को बर्बाद करके मौर्य साम्राज्य की स्थापना की थी और चंद्रगुप्त मौर्य को राजा बनाया था। 

आचार्य चाणक्य ने अर्थशास्त्र नाम का एक ऐसा ग्रंथ लिखा था जिसमें उन्होंने राजनीति, अर्थनीति, कृषि और समाजनीति जैसे सभी विषयों का डिटेल में वर्णन किया गया है और व्यापार की दृष्टि से इसमें कई अनमोल lessons छिपे हुए है। 

तो दोस्तों आज मैं आपके साथ 9  ऐसे business lessons शेयर करने वाला हूं जो मैंने चाणक्य के अर्थशास्त्र से सीखे हैं । और जिन्हे सीखकर आप भी बिजनेस में करोड़ों की अर्निंग कर सकते हैं। तो चलिए अब बिना किसी देरी केउन 9 business lessons के बारे में जानते हैं। 

9 BUSINESS LESSONS from Chanakya Niti


1. Keep Your Business Name

सबसे पहला lesson है अपने बिजनेस का नाम बनाएं रखें। दोस्तो, चाणक्य कहते हैं कि अगर एक बार बिजनेस में व्यक्ति का पैसा डूब जाता है तो उस पैसे को दुबारा कमाया जा सकता है। लेकिन अगर एक बार व्यक्ति के बिजनेस का नाम खराब हो गया तो वो बिजनेस पूरी तरह से बर्बाद है। 

इसलिए दोस्तों चाहे कुछ भी हो जाए , व्यक्ति को हमेशा अपने बिजनेस के नाम को बनाए रखने की कोशिश करनी चाहिए। उदहारण के लिए , अगर आप सस्ते के चक्कर में अपनी दुकान पर अच्छी क्वालिटी का प्रोडक्ट नहीं रखते हैं तो जल्द ही आप अपने सारे ग्राहक खो देंगे क्योंकि जब लोग आपकी दुकान से प्रोडक्ट लेकर जाएंगे तो जाहिर सी बात है कि उन्हें भी कुछ टाइम में पता लग जाएगा कि आप ने उन्हें cheap क्वालिटी का घटिया प्रोडक्ट दिया है। 

जिसके बाद वे वापस से कभी भी आपकी दुकान पर आना पसंद नहीं करेंगे। इसके साथ ही जब ये cheap quality वाली बात लोगों के बीच फैलेगी तब आपके बिजनेस का नाम इतनी बुरी तरह से खराब हो जाएगा कि आपके लिए फ्यूचर में कोई दूसरा बिजनेस करना भी मुश्किल हो जाएगा। 

और चाणक्य की इसी व्यापार नीति को सैमसंग जैसी बड़ी कंपनी ने भी समझा। जिस वजह से जब सैमसंग के सैमसंग गैलेक्सी सेवन मोबाइल की बैटरी में ब्लास्ट होने लगे तब सैमसंग ने करोड़ों का घाटा सहते हुए मार्केट से सभी सैमसंग गैलेक्सी सेवेन को वापस ले लिया और कस्टमर को उनके सारे पैसे लौटा दिए। 

जिस वजह से सैमसंग का मार्केट में नाम खराब होने से बच गया और उसकी online marketing  भी हो गई। और जैसा की आप देख सकते हैं कि आज के टाइम में भी सैमसंग एक top class मोबाइल ब्रांड माना जाता है। 


यह भी पढ़ें : म्यूचुअल फंड में SIP या LUMPSUM किसका उपयोग करके निवेश करना चाहिए? 


2.Don't Tell Your Plans to Anyone

दूसरा lesson  है, अपने प्लान्स किसी को न बताए। चाणक्य कहते हैं कि एक बिजनेसमैन को अपने प्लान को तब तक गुप्त रखना चाहिए जब तक कि उसका काम हो न जाए। दोस्तो अगर आप बड़े लेवल पर बिजनेस करना चाहते हैं तो आपको चाणक्य के इस बिजनेस लेसन को बिल्कुल गांठ बांध लेनी चाहिए। 

क्योंकि आज के टाइम में दूसरों का प्लान चुराने वाले लोगों की या दूसरों का प्लान बर्बाद करने वाले लोगों की कोई कमी नहीं है। इसीलिए अगर आपने अपने बिजनेस से जुड़ा कोई भी अहम फैसला लिया है तो उसे किसी के भी साथ तब तक शेयर न करें जब तक की आपका वो काम पूरा न हो जाए। 

और दोस्तों इसका बहुत बड़ा एग्जाम्पल आप रियल वर्ड में भी देख सकते हैं। जहां बड़े बड़े बिजनेसमैन अचानक से अपने नए प्रोडक्ट या सर्विस की घोषणा करके सबको हैरान कर देते हैं। जियो के लॉन्च होने से पहले मुकेश अंबानी ने पहले से ही इसकी हाइप क्रिएट नहीं की थी और न ही उन्होंने मार्केट में अपने फ्री 4G प्लान्स के बारे में खुलासा किया था। 

क्योंकि अगर वो ऐसा कर देते तो उनकी राइवल कंपनी पहले से ही सतर्क हो जाती और जियो टेलीकॉम मार्केट को disrupt नहीं कर पाता। इसके अलावा आपने नोटिस किया होगा कि हमारे देश के प्रधानमंत्री मोदी जी भी देश को चलाने के लिए चाणक्य के इसी बिजनेस विजन को फॉलो करते हैं। फिर चाहे बात नोटबंदी की हो या हो देश से जुड़े दूसरे अहम फैसलों की। 


यह भी पढ़ें : 26 ASSETS that make you financially free | How to get rich 


3. Speak Sweetly to Everyone

तीसरा business lesson है सभी से मीठा बोलना। दोस्तो, चाणक्य कहते हैं कि अगर आपको अपने व्यापार को आगे बढ़ाना है तो आपको सभी के साथ मीठा बोलना सीखना होगा। क्योंकि एक कड़वी जुबान वाले व्यक्ति से कोई भी बात करना पसंद नहीं करता है। 

जैसे मान लीजिए कि आपकी दुकान में ए वन क्वॉलिटी का प्रोडक्ट बिकता है, वही सामने वाले व्यक्ति की दुकान में आपकी दुकान के कंपेरिजन में low quality का  प्रोडक्ट बिकता है। लेकिन आप स्ट्रेट फॉरवर्ड होने के नाम पर सभी से कड़वी जुबान में यानि की रूडली बात करते हैं। वहीं सामने की दुकान वाला व्यक्ति सबसे मीठा बोलता है। अपने ग्राहकों से उनका हालचाल लेता है, उनकी तारीफ करता है। 

तो ऐसी सिचुएशन में अच्छा प्रोडक्ट होने के बावजूद भी लोग आपकी दुकान में ना आकर सामने वाले व्यक्ति की दुकान में जाना पसंद करेंगे क्योंकि उसकी जुबान मीठी है और आज के समय में जब सभी लोग पहले से फ्रस्ट्रेटेड हैं तो ऐसे में कोई भी व्यक्ति आपकी दुकान पर आकर और आपसे बात करके अपना मूड क्यों खराब करना चाहेगा, चाहे आपका बिजनेस कितना ही सक्सेसफुल क्यों ना हो जाए। 

आखिरकार customer is king .आप कस्टमर के बिना कुछ भी नहीं हो। इसलिए दोस्तों हमेशा याद रखे कि लोगों से आप इस कदर बात करें कि उन्हें आपकी बातें सुनकर अच्छा महसूस हो और वे अगली बार भी आपसे बात करना चाहें। 


यह भी पढ़ें : कैसे बनते हैं ₹5000 से ₹1.76 करोड़: Magic of SIP


4. Don't Tell Business Secret to Anyone

चौथा लेसन है अपने बिजनेस सीक्रेट्स किसी को मत बताओ। दोस्तों चाणक्य कहते हैं कि व्यक्ति को कभी भी बहुत ज्यादा ईमानदार और सच्चा होकर अपने राज नहीं खोलने चाहिए। जैसे मान लीजिए कि आप अपने बिजनेस के लिए किसी ऐसी जगह से कच्चा माल  खरीद लाते हैं जहां काफी सस्ते में और हाई क्वालिटी के प्रोडक्ट्स मिलते हैं। 

अब ऐसे में भले ही आपका कोई दोस्त या रिश्तेदार आपके लिए कितना ही खास क्यों न हो, लेकिन आपको कभी भी बातों ही बातों में उसको यह नहीं बताना चाहिए कि आप अपना raw products किस जगह से खरीदते हैं। क्योंकि क्या पता आपका ये सीक्रेट जानने के बाद सामने वाला व्यक्ति अपना खुद का बिजनेस स्टार्ट कर दे या इस सीक्रेट के बारे में चार और लोगों को बता दे जिससे मार्केट में आपके ढेर सारे competitors तैयार हो जाए। 

रियल वर्ल्ड एग्जामपल की बात करूं तो चाणक्य की इसी व्यापार नीति को कोका कोला जैसी बड़ी कंपनी के ओनर्स ने अपना मूल मंत्र बना लिया। जिस वजह से उन्होंने कोका कोला के फॉर्मूला को आज तक सीक्रेट रखा हुआ है। ताकि कोई भी कंपनी उनके फॉर्मूला को कॉपी करके अपना खुद का सॉफ्ट ड्रिंक बिजनेस न तैयार कर सके। 


यह भी पढ़ें : कम उम्र में अमीर बनना सीखो | 6 Rules to Get Rich Fast


5. Stop Being Shy In Business

अगला पाँचवा लेसन है व्यापार में शर्माना छोड़ दें। दोस्तों, चाणक्य कहते हैं कि जो भी व्यक्ति आर्थिक व्यवहार करने में, ज्ञान को ग्रहण करने में, खाने में और अपना कामधंधा करने में शर्माता नहीं है वह हमेशा सक्सेसफुल होता है। 

अब चाणक्य के इस नियम को आप ऐसे समझिए कि अगर आपने किसी को अपने व्यापार में उधार दिया है तो उसे वापस मांगने में बिल्कुल भी न शर्माएं। क्योंकि जब उधार मांगने वाले व्यक्ति को बिल्कुल भी शर्म नहीं है तो आप को भी किसी बात की शर्म नहीं होनी चाहिए। 

वहीं दूसरी तरफ चाहे आप कोई बहुत बड़ा बिजनेस करते हो या कोई बहुत ही छोटा सा, बिजनेस करते वक्त आपको बुरा फील नहीं होना चाहिए और वो डायलॉग भी है कि कोई भी धंधा छोटा या बड़ा नहीं होता। उदहारण के लिए आप आज के टाइम में बीटेक पानीपुरी वाली को ही देख लीजिए। आज भले ही बहुत से लोग उसका ये बोलकर मजाक उड़ाते हैं कि वो बस पानीपुरी का ठेला ही तो लगा रही है। 

लेकिन क्या आप जानते हैं कि बीटेक पानीपुरी वाली अपने इस ठेले से महीने के हजारों रुपए कमाती है और जाहिर सी बात है कि आने वाले कुछ सालों में बीटेक पानीपुरी वाली अपने कमाए हुए पैसों से कुछ और बड़ा भी कर लेगी। तो ऐसे में आप भी हमेशा याद रखे कि आपका छोटा सा व्यापार भी प्रॉफिट दे रहा है तो फिर आप अपने व्यापार को करने में बिल्कुल भी शर्म ना करें। 


यह भी पढ़ें : कर्ज लेकर करोड़ो कैसे कमाते हैं |Loan Hacks to Become Rich


6. Take The Help Of Young People & Beautiful Women to Grow Your Business

छठा lesson है , व्यापार को बढ़ाना है तो जवान लोगों और सुंदर स्त्रियों का सहयोग लें। अब दोस्तों मैं जानता हूं आप में से बहुत से लोगों को लग रहा होगा कि चाणक्य का ये नियम भेदभाव से भरा हुआ है। 

लेकिन एक बार आप खुद सोचिए क्यों फ्लाइट में ज्यादातर सुंदर एयर होस्टेस को काम पर रखा जाता है। क्यों बड़े बड़े होटल्स में सिर्फ सुंदर महिलाओं को ही रिसेप्शनिस्ट की जॉब दी जाती है? क्यों बड़ी बड़ी कंपनी में जॉब के लिए एक फिक्स एज लिमिट रखी जाती है जो कि मोस्टली केसेस में 18 से 35 साल के बीच की होती है। 

जाहिर सी बात है इन सभी जगहों पर चाणक्य की व्यापार नीति काम करती है। एक बार आप खुद सोचिये क्या एक 45 साल का व्यक्ति उतनी फुर्ती से काम कर पाएगा जितना कि एक 20 साल का व्यक्ति करेगा? obviously not . ऊपर से एक 45 साल के व्यक्ति के दिमाग में आपके बिजनेस को लेकर उतने नए नए और क्रिएटिव ideas भी नहीं आएंगे जितने कि एक जवान व्यक्ति के दिमाग में आ सकते हैं। 

वहीं दूसरी तरफ फ्लाइट और बड़े बड़े होटल्स के रिसेप्शन पर ज्यादातर खूबसूरत महिला को इसलिए काम पर रखा जाता है ताकि ग्राहक उन्हें देखकर अट्रैक्ट हो और पॉजिटिव फील करें। इसलिए दोस्तों जितना संभव हो सके आप अपने व्यापार से सुंदर महिलाओं और जवान व्यक्तियों को जोड़ने की कोशिश करें क्योंकि आने वाला समय यंग जनरेशन का है। 


7. Stay Away From Sad People

सातवां buisness lesson है दुखी लोगों से दूर रहे। दोस्तों चाणक्य कहते हैं कि जो व्यक्ति लगातार किसी दुखी व्यक्ति के संपर्क में रहता है या जो दुष्ट पत्नी का पालन पोषण करता है वह व्यापार में कभी भी सफल नहीं हो सकता है । 

जैसे मान लीजिए कि आज आपके बिजनेस से जुड़ी एक बहुत ही जरूरी मीटिंग है लेकिन ये बात जानने के बाद भी सुबह सुबह ही आपकी पत्नी या गर्लफ्रेंड आपसे खूब सारा झगड़ा करें तो क्या आप अपने बिजनेस पर फोकस कर पाएंगे? इसका जवाब है बिल्कुल भी नहीं और अगर यही चीज़ हर दूसरे दिन होने लगे तो जाहिर सी बात है कि आपका काम में मन ही नहीं लगेगा। जिससे धीरे धीरे करके आपका बिजनेस बर्बाद हो जाएगा। 

वहीं दूसरी तरफ मान लीजिए कि आपका बिजनेस बहुत अच्छा चल रहा है। लेकिन रोज शाम में आप अपने एक ऐसे दोस्त से मिलते हैं जो अपनी परिस्थितियों की वजह से काफी ज्यादा दुखी और निगेटिव रहता है। तो ऐसे में जब भी आप अपने दोस्त से अपने बिजनेस के बारे में कुछ भी डिस्कस करेंगे तो दुखी होने की वजह से वो आपको हमेशा ही निगेटिव सलाह ही देगा। 

उदहारण के लिए ,अगर आप अपने दोस्त से बोलोगे कि मैं ये सोच रहा हूं कि अब मैं अपनी दुकान पर कोई और नया प्रोडक्ट ऐड करूं तो हो सकता है कि आपका दुखी दोस्त आपको ये सलाह दे कि मार्केट में पहले से ही बहुत कंपटीशन है। ऐसे में नया प्रोडक्ट ऐड करना घाटे का सौदा होगा। 

अब इस सिचुएशन में हो सकता है कि आप भी डिमोटिवेट होकर अपना idea ड्रॉप कर दोगे। जिससे आपकी जो फ्यूचर ग्रोथ होने वाली थी वो रुक जाएगी। इसलिए आप चाणक्य की इस नीति को जरूर फॉलो करें और जरूरत पड़ने पर दुखी लोगों की मदद भी करें। लेकिन ऐसे लोगों की संगति बिल्कुल भी न बनाएं। 


8. Don't Be In a Hurry

आठवां buisness lesson है जल्दबाजी के चक्कर में ना पड़े। दोस्तों चाणक्य कहते हैं कि जिस तरह से एक घड़े को बूँद बूँद पानी से भरा जा सकता है, ठीक वैसा ही धीरे धीरे करके बिजनेस नॉलेज और धन इकटठा करने से, और छोटे छोटे काम पूरे करके एक बिजनेस को सक्सेसफुल बनाया जा सकता है। ये तो आप भूल ही जाइए कि चंद दिनों में ही आपका बिजनेस सक्सेसफुल हो जाएगा। 

अगर आपको अपना एक सक्सेसफुल बिजनेस बनाना है तो आप सबसे पहले धीरे धीरे करके इसके लिए पैसे जमा करें और इसी दौरान आपको ऑनलाइन या ऑफलाइन जो भी बिजनेस नॉलेज मिले उसे अपने दिमाग में बैठाते  जाए और जब ये दोनों चीजें पर्याप्त हो जाए तब जाकर आप छोटे छोटे स्टेप्स के जरिए अपने बिजनेस को ग्रो करने में लग जाएं। 

लेकिन इस दौरान अगर आपको कभी भी घाटा हो तो हार मानकर पीछे हटने के बजाए घाटे के रीजन पर फोकस करें और कोशिश करें कि दुबारा आपसे वो गलती न हो जिस वजह से पहले आपको घाटा हुआ था। 


यह भी पढ़ें : पैसो को संभालने में क्यों मुर्ख है Middle-Class इंसान 


9. Speak Only When Necessary

आखरी और नवां buisness lesson  है, सिर्फ तभी बोले जब जरूरी हो।दोस्तों , चाणक्य कहते हैं कि एक बिजनेसमैन को सिर्फ तभी बोलना चाहिए जब आवश्यक हो वरना वह अपना महत्व खो देगा। दोस्तों आज के टाइम में लोगों के बीच ये चलन चल गया है जिसमें कंपनी के बॉस अपने इम्प्लॉइज के साथ दोस्तों जैसा बिहेव करने लगे हैं। लेकिन चाणक्य के मुताबिक  ऐसा नहीं होना चाहिए। 

क्योंकि जब भी कोई बॉस अपने इम्प्लाइज के साथ दोस्तों की तरह बात करना शुरू कर देगा तो इससे उसकी अहमियत अपने आप ही कम हो जाती है। क्योंकि अक्सर ऐसे बॉस बातों ही बातों में अपने क्लाइंट्स को अपनी वीकनेस बता देते हैं। जिसके बाद कंपनी में वर्क का नहीं बल्कि यारी दोस्ती का माहौल बन जाता है और जब वर्क नहीं होगा तो अपने आप ही आप बिजनेस में पीछे हो जाएंगे। 

उदहारण के लिए मान लीजिए कि आप बॉस हैं और आपने बातों ही बातों में सबको ये बता दिया है कि कंपनी loss में जा रही है या फिर काफी ज्यादा प्रोफिट में है। तो अब इन दोनों ही सिचुएशन में आपका नुकसान है। क्योंकि अगर आपने लॉस की बात बता दी है तो एम्पलॉयीज सोच में पड़ जाएंगे कि अगले महीने उनकी सैलेरी मिलेगी भी या नहीं। 

वहीं दूसरी तरफ प्रॉफिट का सोचकर एम्प्लॉयीज आपको पीठ पीछे गाली देंगे, क्योंकि उस टाइम उनके दिमाग में ये बात चलने लगेगी कि अगर कंपनी को इतना ज्यादा प्रॉफिट हो रहा है तो उनकी सैलरी क्यों नहीं बढ़ाई जा रही है। 

वहीं एक दूसरी सिचुएशन में अगर आपने यारी दोस्ती में अपनी कंपनी के एक एम्प्लॉयी को भी ये बता दिया कि आपके घर में आपकी वाइफ का राज चलता है तो वो ये बात सबको बता देगा। जिसके बाद सभी आपकी रिस्पेक्ट करना छोड़ देंगे। 

क्योंकि उस टाइम उनके दिमाग में ये बात चलने लगेगी कि जो आदमी अपनी वाइफ से डरता है उसकी हम रिस्पेक्ट क्यों करें। इसलिए दोस्तों आप हमेशा इस बात का खास ख्याल रखें कि आप अपनी कंपनी के इम्प्लॉइज से सिर्फ तभी बात करें जब जरूरत हो। बेवजह इम्प्लाइज से यारी दोस्ती करने की जरूरत नहीं है। 


यह भी पढ़ें : 20000 की सैलरी वाले भी ₹1करोड़ कमा सकते हैं


Final Words

तो दोस्तों आज के इस आर्टिकल में बस इतना ही। आशा करता हूं कि आपको ये आर्टिकल पसंद आया होगा। अगर आपको हमारे इस आर्टिकल से किसी भी प्रकार का ज्ञान मिला हो तो ,हमारे इस आर्टिकल को अपने दोस्तों तथा अपने घरवालों के साथ शेयर जरूर करियेगा। 

Ethan

About the Author: Ethan is an experienced content writer with over 7 years of experience in crafting engaging and informative articles. His passion for reading and writing spans across various topics, allowing him to produce high-quality content that resonates with a diverse audience. With a keen eye for detail and a commitment to excellence, Ethan consistently delivers top-notch work that exceeds expectations.

एक टिप्पणी भेजें (0)
और नया पुराने