कम उम्र में अमीर बनना सीखो | 6 Rules to Get Rich Fast| Finance In Hindi

Finance In Hindi: दोस्तों इस दुनिया में ज्यादातर लोगों का यही मानना है कि जैसे ही हम young age में पहुँचते हैं उसके बाद हमें दिन रात एक करके खाना पीना सब भुला के एक अच्छी  जॉब में जी जान से लग जाना चाहिए। क्योंकि ज्यादातर लोगों को लगता है कि यही एक रास्ता है जिससे हम अगले 30- 35 सालों में ,यानि की अपनी रिटायरमेंट की उम्र तक अमीर बन पाएंगे और अपनी लाइफ को enjoy कर पाएंगे। 

दोस्तों यह अप्रोच ही गलत है। आप अपने आस पास देखिए ऐसे कितने ही लोग हैं जो जीवनभर 9-5 की जॉब या ओर किसी छोटे मोटे काम में खुद को झोंक देते हैं। पर उनमें से कितने लोग हैं जो 60-65  की उम्र पर आकर अपनी लाइफ को इंजॉय करते हैं? एक भी नहीं, क्योंकि इस उम्र तक आते आते आपके पास एन्जॉय करने के लिए कुछ नहीं बचता। 

न तो आपके पास ज्यादा लाइफ बचती है, न आपकी बॉडी में उतनी एनर्जी और न ही उतना उत्साह। और तो और इस उम्र तक आते आते आपकी सारी आकांक्षाएं भी खत्म हो जाती हैं। 

6 RULES to Get Rich FAST


दोस्तों, लाइफ को इंजॉय करने के लिए और अमीर बनने के लिए ऐसा बिल्कुल भी जरूरी नहीं है कि आपको बूढ़ा होना पड़ेगा और एक ही जॉब में दिन रात काम करना पड़ेगा। 

आप कम उम्र में भी बिलेनियर और super rich बन सकते हैं ,और साथ ही साथ अपनी लाइफ को बेहतर तरीके से जीते हुए इंजॉय भी कर सकते हैं। हमारे सामने ऐसे कई सारे उदहारण हैं जिन्होंने इसे प्रूव करके दिखाया है। फिर चाहे वो फेसबुक के फाउंडर मार्क जुकरबर्ग हों या फिर Oyo के फाउंडर रितेश अग्रवाल हों। तो आज के इस article  में हम यही जानेंगे कि कैसे आप भी कम उम्र में ही बिलेनियर या रिच बन सकते हैं और अपनी लाइफ को अच्छी तरह से इंजॉय कर सकते हैं।


यह भी पढ़ें : कर्ज लेकर करोड़ो कैसे कमाते हैं |Loan Hacks to Become Rich


1. The Law of Effection- Finance In Hindi

अमीर बनने के लिए सबसे पहला और सबसे जरूरी मंत्र है Law of Effection। यानि कि आपको कोशिश यह करनी चाहिए कि अपने काम से जितना हो सके उतने लोगों को प्रभावित या इफेक्ट करना चाहिए। इसे एक एग्जांपल के थ्रू समझते हैं। मान लीजिए कि आप एक स्टार्टअप के फाउंडर हैं और आप अपने स्टार्टअप के थ्रू लोगों को सर्विस प्रोवाइड करते हैं। 

अब अगर आपकी सर्विस ऐसी है जो बस एक खास वर्ग के लोगों को टारगेट करती है तो हो सकता है आपको मिलने वाला प्रोफिट बहुत ही कम हो। लेकिन अगर आप कोई ऐसी सर्विस या प्रोडक्ट लोगों को अवेलेबल कराते हैं जिसकी पहुँच  बहुत ज्यादा है यानी की ज्यादा से ज्यादा लोगों को उसकी जरूरत है तब आपको होने वाला प्रॉफिट बढ़ता ही जाएगा। 

मान लीजिए आपका प्रोडक्ट या सर्विस ऐसा है जो 10 लाख लोगों की लाइफ को इफेक्ट करता है और उनकी लाइफ में वैल्यू ऐड करता है और आपको हर कस्टमर को प्रोडक्ट या सर्विस प्रोवाइड कराने पर ₹10 का फायदा होता है तो आपका टोटल प्रॉफिट होगा ₹1 करोड़। 

The Law of Effection


और अगर यही आपका कस्टमर बेस धीरे धीरे बढ़ते हुए 1 करोड़ हो गया तो आपको होने वाला प्रॉफिट भी बढ़कर 10 करोड़ हो जाएगा। इस तरह आपकी power of effection  जितनी बढ़ती चली जाएगी, आपका प्रॉफिट भी उतना ही बढ़ता जाएगा और जल्द से जल्द आप अपना बिलेनियर या अमीर बनने का अपना सपना पूरा कर पाएंगे। 


2. Skills - Finance In Hindi

दूसरा सबसे जरूरी मंत्रा है स्किल्स। जैसा कि हम सभी आज के दौर में देख रहे हैं, चारों तरफ बेरोज़गारी ही बेरोज़गारी फैली हुई है। लगभग सारे के सारे working age  वाले लोग बेरोजगार बैठे हुए हैं। सब लोगों की बड़ी से बड़ी डिग्रियां धरी की धरी रह गई है। कोई डिग्री के बेसिस पर काम देने को तैयार ही नहीं है। 

जबकि दूसरी तरफ जिन लोगों के पास स्किल्स हैं, उनके लिए कहीं पर भी काम की कोई कमी नहीं है। ऐसा इसलिए है कि आगे आने वाला टाइम डिग्रियों का नहीं, बल्कि Skills का है। अभी तक तो ये होता था कि आप किसी भी चीज की डिग्री कर लो या कोई भी इंस्टीट्यूट से डिग्री कर लो, आपको एक अच्छा काम मिल जाएगा। लेकिन अब ऐसा नहीं है। अब जरूरी है आपके पास Skills का होना। 

इंटरनेट के इस दौर में जहां एक ओर लोग बेरोजगार बैठे हुए हैं और सोशल मीडिया पर अपना टाइमपास कर रहे हैं, वहीं दूसरी ओर skill full person अपनी स्किल्स का यूज करते हुए उसी सोशल मीडिया से लाखों करोड़ों रुपए बना रहे हैं और दिन प्रतिदिन अमीर होते चले जा रहे हैं। 

सोशल मीडिया के थ्रू लोगों ने अपनी स्किल्स को ही बिजनेस में कनवर्ट कर दिया है। कोई वीडियो एडिटिंग कर रहा है, कोई एफिलिएट मार्केटिंग तो कोई वेब डेवलपमेंट। लोग कम से कम इन्वेस्टमेंट करते हुए अपनी स्किल्स के जरिए बेहतर पैसा बना रहे हैं और एक अच्छी लाइफस्टाइल जी रहे हैं। 

skills for earn money


अब जरूरी नहीं है कि आपके पास लाखों करोड़ों रूपये हों, तभी आप बिजनेस कर सकते हैं। इंटरनेट और आर्टिफिशल इंटेलिजेंस के थ्रू आप अपनी स्किल्स यूज करके बड़ी ही आसानी से अपना खुद का एक बिजनेस या ब्रैंड बना सकते हैं और एक मिलेनियर या बिलेनियर बनने का अपना सपना पूरा कर सकते हैं। 


3. Create Multiple Sources of Income- Finance In Hindi 

तीसरा सबसे जरूरी मंत्रा है Create Multiple Sources of Income। अगर आप अपनी लाइफ में जल्द से जल्द अमीर बनना चाहते हैं और अपने आप को financially free बनाना चाहते हैं तो ये मंत्रा आपके लिए सबसे जरूरी है। हमारे आसपास ज्यादातर लोग इसी वजह से परेशान और financially weak बने रहते हैं क्योंकि उनके पास इनकम का सिर्फ एक ही सोर्स होता है। 

ज्यादातर लोग उसी ट्रेडिशनल पाथ पर चलते रहते हैं और प्रॉब्लम्स में फंसे रहते हैं। महीने दर महीने  वे अपनी सैलेरी पर ही डिपेंड बने रहते हैं और कभी भी उनके पास इतने पैसे नहीं हो पाते कि अगर एक मंथ की सैलरी रुक जाए या कोई इमरजेंसी आ जाए तो उसमें वो ठीक से सर्वाइव कर पाएं। 

वहीं अगर हम अपने देश के richest person को देखें तो उनमें चाहे मुकेश अंबानी हो या फिर गौतम अडानी कोई भी किसी एक बिजनेस पर डिपेंड नहीं है। लगभग सभी अमीर लोगों ने अपने मल्टीपल busineses बना रखे हैं।

Creating Multiple Sources of Income

 
इसी तरह आपको भी किसी एक income source पर डिपेंड होकर नहीं रहना है, बल्कि आप कहीं भी फुल टाइम जॉब क्यों न करते हो। आप अपनी जॉब के साथ साथ एक साइड बिजनेस की शुरुआत भी कर सकते हैं और जब आपका यह बिजनेस सक्सेसफुल हो जाए, उसके बाद आप दूसरा बिजनेस भी शुरू कर सकते हैं। इस तरह करते करते एक टाइम बाद आपके पास मल्टीपल बिजनेसेज होंगे और आपको जॉब करने की भी जरूरत नहीं रह जाएगी। 


यह भी पढ़ें :पैसो को संभालने में क्यों मुर्ख है Middle-Class इंसान 


आपके पास जितने मल्टीपल sources of income होंगे, आने वाले टाइम में आपकी इनकम भी उतने ही मल्टीपल्स में ग्रो होगी और आप जल्द ही एक अमीर इंसान बन पाएंगे। साथ ही साथ आपको एसेट्स बनाने पर भी फोकस करते रहना होगा, क्योंकि ज्यादातर सभी रिच पर्सन के पास मल्टीपल बिजनेस तो है ही, साथ ही साथ उनके पास मल्टीपल एसेट्स भी हैं, जो उन्हें इमरजेंसी आने पर कर्ज में डूबने से बचाते हैं। आप भी टाइम टाइम पर इनवेस्टमेंट करते हुए अपनी मल्टीपल एसेट्स तैयार कर सकते हैं। फिर चाहे वो रियल इस्टेट हो या फिर गोल्ड। 


4. Always Look for Discount -Finance In Hindi

दोस्तों ,चौथा सबसे जरूरी मंत्र है आलवेज लुक फॉर डिस्काउंट। दोस्तों, अमीर बनने के लिए लाइफ में जितना जरूरी सेविंग करना है, उतना ही जरूरी है महंगे से महंगे एसेट्स को कम दामों में खरीदना। आपको हमेशा मार्केट में इस बात पर फोकस बनाए रखना होगा कि कैसे और कब एक अच्छे से अच्छे asset को कम दामों में खरीदा जा सकता है। 

अपनी रिसर्च और एनालिसिस का यूज करके आप लगभग हर जगह अपना पैसा बचा सकते हैं और कम से कम अमाउंट में अच्छे से अच्छा क्वॉलिटी प्रोडक्ट खरीद सकते हैं। एग्जांपल के लिए फेसबुक के फाउंडर मार्क जुकरबर्ग ने वाट्सअप को उस टाइम पर खरीदा था, जब वह पहले से ही महीने के 1 मिलियन डॉलर के लॉस में था। 

लेकिन मार्क जुकरबर्ग को यह पता था कि आने वाले टाइम में वॉट्सऐप उन्हें बहुत सारे पैसे बना कर देगा। इसीलिए लॉस में होते हुए भी उन्होंने वॉट्सएप को खरीद लिया और आज उनके लिए वॉट्सएप एक बेहतर एसेट साबित हुआ। इसी तरह आप भी अच्छे से अच्छे एसेट को डिस्काउंट में खरीद सकते हैं। 

Always Look for Discount


बस आपको उसके लिए अपनी जरूरत, मार्केट के ट्रेंड और फ्यूचरिस्टिक एप्रोच का पता होना बहुत ही जरूरी है। और जब ये डिस्काउंट आपकी आदत बन जाएगी तो आप लगभग हर चीज में अपना पैसा बचा पाएंगे। यहां तक कि आप अपनी लायबिलिटीज को भी कम से कम पैसे में खरीदने लग जाएंगे। 


5. Avoid debt as Much as Possible - Finance In Hindi

पांचवा और सबसे जरूरी मंत्रा है Avoid debt as Much as Possible। यानी कि जितना हो सके हर प्रकार के कर्ज़े और उधार से खुद को दूर ही रखें। वरना आप अपने जीवन में कभी भी एक अमीर इंसान नहीं बन पाएंगे। मॉडर्न टाइम की लाइफस्टाइल में ज्यादतर हम सभी लोग पैसा आते ही लग्जरी के ऊपर खर्च करना शुरू कर देते हैं। 

हम दूसरों से खुद को बेहतर दिखाने के चक्कर में एक्सपेंसिव से एक्सपेंसिव आइटम्स खरीदना शुरू कर देते हैं और अपनी डे टू डे लाइफ को खर्चीला बनाते ही चले जाते हैं। यहीं से शुरू होता है हमारी लाइफ का सिलसिला। यानि कि ऐसे आइटम्स या प्रोडक्ट्स जिनपर अब लगातार हमें पैसे खर्च ही करना है। 

हम जान बूझकर अपने ऊपर इतनी लायबिलिटीज और एक्सपेंसेज का खर्चा डाल लेते हैं कि हम जीवनभर के लिए EMI के जाल में फंसकर रह जाते हैं। इसलिए ज्यादातर financial advisors हमें यही सलाह देते हैं कि debt से हमेशा बचकर ही रहें, क्योंकि एक बार जब ये आपकी लाइफ में इंट्री कर गया तो इसको निकालना काफी मुश्किल हो जाता है और आप अपने जीवनभर की कमाई फाइनेंस कंपनी को इंट्रेस के रूप में ही देते रहेंगे। 


यह भी पढ़ें :20000 की सैलरी वाले भी ₹1करोड़ कमा सकते हैं


वेस्टर्न कंट्रीज में देखा जाए तो उनके लगभग 40-50% नागरिक आज इसी debt  प्रॉब्लम से गुजर रहे हैं। उन्होंने अपने लाइफस्टाइल एक्सपेंसेज इस हद तक बढ़ा लिए हैं कि वे अपने credit card के बिल तक नहीं pay कर पा रहे हैं और यहां तक कि इसके लिए उन्हें कई बार अदालत का भी सामना करना पड़ता है। 

Avoid debt as Much as Possible


इसलिए सबसे बेहतर यही है कि आप अपने पैसे और खर्चों को अच्छी तरह से मैनेज करके चलें और luxury and liability बढ़ाने की जगह ऐसेट्स बनाने की कोशिश करें। 


6. Saving and Investment - Finance In Hindi

छठा यानी की लास्ट  मंत्रा है Saving and Investment. प्रेजेंट टाइम की सबसे बड़ी प्रॉब्लम यही हो चुकी है कि लोग पैसा बना तो खूब रहे हैं, मगर बचा नहीं पा रहे। लगभग हर दूसरे व्यक्ति की यही कहानी है कि मंथली सैलेरी या मनी आता है, मगर चला कहां जाता है, इसका पता ही नहीं चलता। 

लोग हर महीने यही सोचते हैं कि इस बार इतने पैसे सेव कर लेंगे, लेकिन हर महीने कोई न कोई नया खर्चा सामने आकर खड़ा हो जाता है। budgeting के साथ यही प्रॉब्लम है। जैसा कि लेखक डेविड वाइज अपनी बुक The Automatic Millionaire में कहते हैं कि "Never Trust Your Diciplin". 

उन्होंने अपनी बुक में एग्जाम्पल्स के थ्रू समझाते हुए बताया है कि बजटिंग कभी भी काम नहीं करती। दोस्तों, बजटिंग इसलिए काम नहीं करती क्योंकि इसे आप अपने डिसिप्लिन के थ्रू पोस्टपोन करने की कोशिश करते हैं और इस बात का इतिहास गवाह है कि ह्यूमन्स आज तक कोई भी काम forcefully कर ही नहीं पाया है। इसलिए सेविंग्स करने का सबसे बेहतरीन उपाय है कि pay yourself first, यानी कि जब भी आपके अकाउंट में सैलरी या पैसा आता है तो उसका कुछ परसेंट हिस्सा पहले ही निकाल कर किसी अच्छी सी जगह इन्वेस्ट कर दें। 

इसके लिए सबसे बेहतर उपाय है ऑटोमेटिक इन्वेस्टमेंट। यानी कि आप SIP जैसा automatic investment का तरीका अपनाएं जिससे आपको हर महीने सेविंग्स करने के लिए और इन्वेस्टमेंट के लिए कन्फ्यूज ना होना पड़े। जब भी आपके अकाउंट में सैलरी या पैसा आए तो उसमें से एक फिक्स्ड अमाउंट ऑटोमेटिकली डिडक्ट होकर एक अच्छी सी जगह अपने आप इन्वेस्ट हो जाए। 

क्योंकि खुद से यह सारा काम करना बहुत ही मुश्किल होता है और यही रीजन है कि ज्यादातर लोग न तो कभी सेविंग्स कर पाते हैं और न ही किसी बेहतर जगह पर इन्वेस्टमेंट। इसीलिए तो अधिकतर लोगों का अमीर या बिलेनियर बनने का सपना बस एक सपना बनकर ही रह जाता है और वो कभी भी  रियलिटी में कनवर्ट नहीं हो पाता। 

Saving and Investment


तो आज से ही ये डिसाइड करना शुरू कर दें कि आपको हर महीने कितनी सेविंग्स करनी है और उन सेविंग्स को किस जगह पर इन्वेस्ट करना है। तभी आप जल्द से जल्द एक अमीर और सक्सेसफुल पर्सन बन पाएंगे। 


Bottomline

तो दोस्तों आज के इस आर्टिकल में इतना ही। दोस्तों आशा करते हैं की आपको हमारे आज की इस आर्टिकल से कुछ ना कुछ Financial Knowladge मिली होगी। आर्टिकल को अंत तक पढ़ने के लिए धन्यवाद। 


यह भी पढ़ें :इन 6 Middle-Class Traps से बचें जो आपको आर्थिक रूप से पीछे धकेल सकते हैं

Ethan

About the Author: Ethan is an experienced content writer with over 7 years of experience in crafting engaging and informative articles. His passion for reading and writing spans across various topics, allowing him to produce high-quality content that resonates with a diverse audience. With a keen eye for detail and a commitment to excellence, Ethan consistently delivers top-notch work that exceeds expectations.

एक टिप्पणी भेजें (0)
और नया पुराने