पोस्ट ऑफिस की इस स्कीम में सिर्फ इतने समय में गारंटी के साथ पैसा दोगुना होकर मिलेगा| KVP Scheme of Post Office

दोस्तों फिर हेरा फेरी फिल्म में अनुराधा ने पैसा डबल स्कीम राजू को और फिर राजू ने पूरी दुनिया को बेची थी और फिल्म में ही हमें पता चल गया था कि इस तरह की स्कीम फर्जी होती है। कोई भी स्कीम इतने कम समय में आपका पैसा डबल नहीं कर सकती है। आज मैं एक ऐसी सरकारी स्कीम के बारे में आपको बताने जा रहा हूं जो पैसा डबल भी करती है और निवेशकों को दोगुना पैसा लौटाती भी है। और तो और इसमें पैसा डूबने का रिस्क बिल्कुल नहीं होता है। 

आज मैं बात करने वाला हूं किसान विकास पत्र के बारे में। यह पोस्ट ऑफिस की सेविंग स्कीम है। पर बैंकों में भी इस स्कीम के तहत अकाउंट खोला जा सकता है। अभी के इंटरेस्ट रेट के हिसाब से इसमें जमा पैसे 115 महीनों यानी नौ साल सात महीनों में डबल हो जाएंगे। यह उन सेविंग स्कीम्स में से एक है, जिनमें जमा पैसों के डूबने का रिस्क जीरो होता है। वहीं, यह सरकार की सबसे चर्चित योजना में से एक है। 

यह स्कीम साल 1988 में शुरू की गई थी। यह एक स्मॉल सेविंग सर्टिफिकेट स्कीम है। इसका मकसद लोगों में बचत और लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट की आदत को बढ़ावा देना है। इस स्कीम को किसानों के लिए लॉन्च किया गया था ताकि वह खेती से होने वाली अपनी कमाई थोडी थोडी करके इस स्कीम में लगाकर सेव कर सके और तय समय के बाद इससे अच्छा रिटर्न पा सकें। अब इस स्कीम के तहत कोई भी अकाउंट खोल सकता है और अपने निवेश पर अच्छा रिटर्न पा सकता है। तो चलिए इस अकाउंट से जुडे कुछ जरूरी सवालों के जवाब जान लेते हैं। 


kisan vikas patra scheme of post office


Table of Contents


किसान विकास पत्र 2024 अवलोकन 

योजना का नाम किसान विकास पत्र 2024
योजना की समय अवधि 115 महीनें
योजना की न्यूनतम और अधिकतम जमा सीमा न्यूनतम ₹1000 और अधिकतम जमा की कोई सीमा नहीं
ब्याज दर 7.5%


यह अकाउंट कौन खोल सकता है?

तो पहला सवाल है यह अकाउंट कौन खोल सकता है? 

  • कोई भी भारतीय नागरिक यह अकाउंट खोल सकता है। 
  • अधिकतम तीन लोग मिलकर जॉइंट अकाउंट भी खोल सकते हैं। 
  • किसी नाबालिग के नाम पर उसके गार्जियन अकाउंट खोल सकते हैं। 
  • 10 साल से बड़े उम्र के बच्चे भी अपने नाम पर इस स्कीम के तहत अपना अकाउंट खोल सकते हैं। 


यह भी पढ़ें :

हर महीने ₹18500 पाने के लिए कितना निवेश करना पड़ेगा

PLI Whole Life Assurance policy Benefits

सबसे ज्यादा फायदा और ब्याज देने वाली स्कीम 


किसान विकास पत्र में कितने पैसे डाले जा सकते हैं? 

कई सरकारी योजनाओं में अधिकतम धनराशि फिक्स्ड होती है कि फलाना धनराशि से ज्यादा पैसे आप नहीं डाल सकते। हालांकि किसान विकास पत्र में अधिकतम इन्वेस्टमेंट की कोई लिमिट नहीं है। हालांकि इसमें कम से कम हजार रुपए और उसके ऊपर ₹100 के गुणांक में ही पैसे डाले जा सकते हैं। यानी 1000, 1100,1200,1300....  इस अकाउंट में डाले जा सकते हैं। 

इस योजना की एक और खासियत यह है कि इसके तहत एक व्यक्ति एक से ज्यादा अकाउंट भी खोल सकता है। हां, अगर आपका डिपॉजिट 50,000 से ज्यादा का होगा तो आपको अपने पैन कार्ड की डिटेल्स अकाउंट खोलते समय डालनी होगी। 


किसान विकास पत्र में कितने समय के लिए पैसा रखना होता है

अब हमारा अगला सवाल आता है कि इस योजना में कितने समय के लिए पैसा रखना होता है। साल के हर तिमाही के लिए इस योजना के तहत इंटरेस्ट रेट तय होता है। उस इंटरेस्ट रेट के हिसाब से ही यह तय होता है कि अकाउंट मैच्योर कब होगा। 

इस स्कीम का मकसद निवेशकों को उनके जमा किए गए पैसे का डबल वापस करना होता है। 2024 के अप्रैल से जून तिमाही के लिए इस स्कीम का इंटरेस्ट रेट 7.5 पर्सेंट है। इंडिया पोस्ट की वेबसाइट के मुताबिक, 115 महीने यानी कि नौ साल सात महीनों में इसमें निवेश किया गए पैसे डबल होंगे। 

इस हिसाब से कहा जा सकता है कि अगर योजना का पूरा लाभ लेना है तो 115 महीनों के लिए पैसे जमा करके रखना ही सही रहेगा। 


क्या kisan vikas patra को समय से पहले बंद कर सकते हैं 

अगला सवाल आ जाता है कि अकाउंट समय से पहले बंद करने की जरूरत पड़ गई तो ? दोस्तों कुछ विशेष शर्त में ही इस अकाउंट को समय से पहले बंद किया जा सकता है। 


शर्तें क्या है? 

  • अकाउंट होल्डर या अकाउंट होल्डर में से किसी एक का अगर निधन हो जाता है तो वह अकाउंट बंद हो सकता है। 
  • अगर कोर्ट इसे बंद करने का आदेश दे। 
  • डिपॉजिट के दो साल छह महीने के बाद आप यह अकाउंट बंद कर सकते हैं। 



किसान विकास पत्र में टैक्स में कोई छूट मिलती है। 

किसान विकास पत्र में जमा किए गए पैसों पर टैक्स में कोई छूट नहीं मिलती है। हालांकि इस योजना पर मिलने वाला रिटर्न पूरी तरह से टैक्स फ्री होता है। यानी अकाउंट के मैच्योर होने के बाद आपको जो दोगुनी रकम मिलेगी, उस पर आपको कोई टैक्स नहीं देना होगा। 


क्या किसान विकास पत्र पर लोन लिया जा सकता है 

आप अपने किसान विकास पत्र अकाउंट को कोलेटरल रखकर उसके विरुद्ध लोन ले सकते हैं। इस पर लोन लेने पर आपको कम इंटरेस्ट पर भी लोन मिल सकता है। वहीं, इस अकाउंट के लिए आप अपना नॉमिनी भी फाइल कर सकते हैं। 


क्या इस अकाउंट को ट्रांसफर किया जा सकता है? 

किसान विकास पत्र को एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति के नाम पर और एक पोस्ट ऑफिस से दूसरे पोस्ट ऑफिस में ट्रांसफर किया जा सकता है। एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति के नाम पर अकाउंट चार तरीकों से ट्रांसफर हो सकता है। 

  1. जॉइंट ओनर से एक सिंगल ओनर के नाम पर 
  2. सिंगल ओनर से जॉइंट ओनर के नाम पर 
  3. अकाउंट होल्डर के निधन हो जाने पर उनके वारिस के नाम पर 
  4. कोर्ट के आदेश पर भी केवीपी को ट्रांसफर किया जा सकता है

वहीं, अकाउंट को एक पोस्ट ऑफिस से दूसरे में ट्रांसफर करने के लिए जिस पोस्ट ऑफिस में अकाउंट खोला गया है, वहां पर लिखित में ट्रांसफर की  ऐप्लिकेशन देकर अकाउंट ट्रांसफर कराया जा सकता है। 


किसान विकास पत्र योजना में खाता कैसे खोलें 

अब सबसे जरूरी सवाल इस स्कीम के तहत अकाउंट कैसे खोलें। 

  • इसके लिए आपको पोस्ट ऑफिस जाना होगा। 
  • वहां से किसान विकास पत्र के लिए आवेदन करने के लिए फॉर्म लेना होगा। 
  • इस फॉर्म में मांगी गई सारी जानकारियों को आपको साफ अक्षरों में भरना होगा और फिर पोस्ट ऑफिस में ही फॉर्म जमा करना होगा। 
  • इसमें आपका नाम, पता, आधार कार्ड की जानकारी , कितना पैसा निवेश करना चाहते हैं, ये सब जरूरी जानकारी आपको डालनी होगी।
  • अगर आप ये फॉर्म किसी एजेंट की मदद से भर रहे हैं तो फॉर्म A1 भी भरकर आपको जमा करना होगा। 
  • इसके बाद आपको पैसे और अपना एक आईडी प्रूफ की फोटो कॉपी जमा करनी होगी। संभावना है कि आधार से काम हो जाएगा। 

इसके आपके द्वारा दी गई जानकारियों को वेरिफाई किया जाएगा। उसके बाद आपको किसान विकास पत्र सर्टिफिकेट जारी किया जाएगा। ये एक फिजिकल सर्टिफिकेट होगा और वैकल्पिक रूप से  इसे आप अपनी रजिस्टर्ड मेल आईडी पर भी मांग सकते हैं। यहां बता दें कि अकाउंट के मैच्योर होने के बाद इसी सर्टिफिकेट को दिखाकर आप उसी पोस्ट ऑफिस से अपने पैसे ले सकते हैं। 


किसान विकास पत्र के फायदे 

चलते चलते इस स्कीम के बड़े फायदों के बारे में भी जान लेते हैं। 

  1. पहला बड़ा फायदा तो यही है कि इसमें पैसों की डूबने का कोई रिस्क नहीं है और अच्छा रिटर्न मिलना तय है। किसान विकास पत्र में लगाए पैसों पर मार्केट का रिस्क बिल्कुल भी नहीं है। 
  2. दूसरा फायदा यह है कि इसमें जमा पैसों पर चक्रवृद्धि ब्याज मिलता है। किसी वजह से अगर आप इसमें जमा पैसे मैच्योरिटी के बाद न निकाल पाएं तो जब तक आप पैसे नहीं निकालेंगे, तब तक इंटरेस्ट मिलता रहेगा। 


निष्कर्ष 

तो अगर आपके पास ऐसी धनराशि  है, जिसकी आपको भविष्य  में जरूरत नहीं है तो आप उससे किसान विकास पत्र ले सकते हैं। इसमें पैसों की सुरक्षा और अच्छा रिटर्न दोनों ही सरकार की जिम्मेदारी है। तो दोस्तों , कैसी लगी आपको यह जानकारी, हमें जरूर बताइएगा।लेख को अंत तक पढ़ने के लिए धन्यवाद। 

Vinod Pandey

About the Author: Vinod is an experienced content writer with over 7 years of experience in crafting engaging and informative articles. His passion for reading and writing spans across various topics, allowing him to produce high-quality content that resonates with a diverse audience. With a keen eye for detail and a commitment to excellence, Vinod consistently delivers top-notch work that exceeds expectations.

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने